छत्तीसगढ़

बस्तर

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

जगदलपुर। बस्तर के एक लैब में कांकेर से लेकर बैलाडिला तक से मरीज जांच करवाने पहुंचते हैं। कुछ ही घंटों में मरीजों की संख्या इतनी बढ़ जाती है कि वहां पर खड़े होने तक की जगह नहीं होती है। यह क्लिनिक डॉ. हेमंत कुमार का है। जो वर्षों से यहां रहकर बस्तर के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले मरीजों का कम पैसे में टेस्ट आदि करते हैं। हम बात कर रहे हैं जगदलपुर के चाँदनी चौक में स्थित लैब की।

पैथोलॉजी लैब के प्रमुख और बस्तर के वरिष्ठ डॉक्टर्स में से एक डॉ. हेमंत कुमार ने बताया कि उनका जन्म भी यही हुआ था। उसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई भी यही से शुरू की। पहली से लेकर कॉलेज तक की पढ़ाई शहर के बस्तर हाई स्कूल, धरमपूरा व अन्य स्कूल से पढ़ाई करने के बाद, डॉ. की पढ़ाई करने के लिए रायपुर मेडिकल कॉलेज गए। यहां से एमबीबीएस की पढ़ाई करने के बाद पैथोलॉजी की पढ़ाई शुरू की। कड़ी मशक्कत के बाद पैथोलॉजी में डीसीपी की पढ़ाई करने के बाद बस्तर आ गए।

उन दिनों बस्तर में टेस्ट आदि की कोई सुविधा नहीं थी। ऐसे में कम संसाधनों के बाद भी यहां शुरुआत की गई । देखते ही देखते शहरी के साथ ही ग्रामीण अंचल के बाद ख्याति इस प्रकार फैली कि अब कांकेर, भानुप्रतापपुर, बैलाडिला, ओडिसा से मरीज टेस्ट कराने के लिए आते हैं। करीब 31 वर्षों से बस्तर के मरीजों को इस सुविधा का लाभ दिया जा रहा है। रोजाना एक दिन में करीब 100 के लगभग मरीजों टेस्ट किया जाता है।

उन्होंने कहा कि समय के साथ ही इस लैब में टेक्नोलॉजी भी बढ़ती चली गई, जिसमें अब ऐसे भी टेस्ट यहां पर होने लगे हैं जो सिर्फ राजधानी या बड़े शहरों में होते थे। अब गठियावाद के लिए भी अलग से मशीन आ गई है। आपातकालीन स्थिति के दौरान भी कई ऐसे टेस्ट किये जा रहे हैं जो यहां नहीं होते थे।

बस्तर संभाग

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

संतोष ठाकुर

जगदलपुर। बस्तर पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार झा ने आने के कुछ दिन के बाद ही विभाग में सर्जरी की है। एसपी ने 13 पुलिसकर्मियों के तबादले के आदेश दिये हैं। देखिये लिस्ट

  1. उप निरीक्षक शिशुपाल सिन्हा को चौकी बकावण्ड से प्रभारी डीआरजी 3
  2. उप निरीक्षक सुशील त्रिपाठी को चौकी ककनार से डीआरजी 2
  3. उप निरीक्षक मनोज तिर्की को थाना बोधघाट से चौकी प्रभारी बकावण्ड
  4. सहायक उप निरीक्षक वंदना चौहान को बोधघाट से रक्षित केंद्र जगदलपुर
  5. सहायक उप निरीक्षक सूर्यप्रकाश साहू को ककनार से बोधघाट
  6. सहायक उप निरीक्षक जगदीश सिंह ठाकुर को मारडूम से बोधघाट
  7. सहायक उप निरीक्षक विश्व राज सोलंकी को बुरगुम से चौकी बस्तर
  8. सहायक उप निरीक्षक केशव प्रसाद पाणिग्रही को रक्षित केंद्र से थाना करपावंड
  9. आरक्षक कुर्तिवास को रक्षित केंद्र से कैम्प नानगुर
  10. महिला आरक्षक पूर्णिमा पांडेय को रक्षित केंद्र से नगर पुलिस अधीक्षक कार्यालय
  11. सहायक आरक्षक सहदेव मौर्य को चित्रकोट से थाना भानपुरी
  12. सहायक आरक्षक जयदास दीवान को चौकी ककनार से चौकी घोटिया
  13. सहायक आरक्षक कार्तिकराम नाग को रक्षित केंद्र से कैम्प नानगुर भेजा गया है।

एक्सीडेंट

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रमेश गुप्ता

दुर्ग। पुलिस ने मोटरसाइकिल को ठोकर मारकर 4 युवकों की जान लेने वाले आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल 4 जून की रात करीब 2:30 बजे पुलगांव नाला के ऊपर एक मोटरसायकल में सवार 4 युवकों की मौत अज्ञात वाहन से टकराने से हो गई थी, जिसमें से 3 लड़के शक्तिनगर दुर्ग के थे वहीं 1 लड़का कसारीडीह दुर्ग का था। पुलिस के सामने चुनौती यह थी कि उस गाड़ी को ढूंढे कैसे जबकि चारो लड़को की मौत मौके पर ही हो गई थी और एक्सीडेंट का कोई प्रत्यक्षदर्शी गवाह भी नहीं था।

यह घटना पुलगांव की है, जहाँ पुलिस ने पुलगांव चौक व गंज पारा चौक के बीच रोड में लगे कैमरे का फुटेज निकाल कर रात 2:30 बजे के आसपास गुजरने वाले वाहनों की लिस्ट तैयार कर हर एक गाड़ी वालो को वेरीफाई किया और उनसे पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान एक मशीनरी से लोड ट्रेलर पर संदेह बढ़ा। गाड़ी का नंबर स्पष्ट नहीं होने पर राजनांदगांव के टोल नाके में लगे कैमरे की मदद ली गई। नम्बर स्पष्ट होने पर महाराष्ट्र आरटीओ से जानकारी लेकर ट्रेलर मुम्बई का होना पाये जाने पर कोतवाली दुर्ग थाने से पुलिस टीम भेजकर वाहन MH 46 h/1688 और उसके ड्राइवर मुम्बई के कालनबेली निवासी कश्मीर सिंह को गिरफ्तार किया गया और आज मंगलवार को कोर्ट में पेश किया गया, जिसके बाद उसे रिमांड में भेज दिया गया है।  

सरगुजा संभाग

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

अंबिकापुर।  यहां-वहां प्लास्टिक फेंकने से हमारे और पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे निजात पाने के लिए अंबिकापुर नगर निगम ने नयी योजना बनायी है, जिसके कारण अंबिकापुर नगर निगम दोबारा सुर्ख़ियों में आया गया है।  इस योजना के तहत प्लास्टिक के बदले शहर के गरीब लोगों को नाश्ता दिया जायेगा।

अंबिकापुर नगर निगम ने प्लास्टिक के दोबारा उपयोग करने के लिए गार्बेज कैफे योजना की शुरुआत की है। गार्बेज कैफे योजना के अंतर्गत शहर के कचरे को कोई भी महिला या पुरुष आधा किलो प्लास्टिक कचरा बिन कर लायेगा तो उसे भरपेट नाश्ता दिया जायेगा, इस योजना के लिए अंबिकापुर नगर निगम से 5 लाख की राशि पारित हुई है और जरुरत पड़ने पर जनप्रतिनिधियों से भी सहायता ली जाएगी।

इस मामले में अंबिकापुर के महापौर डॉ. अजय तिर्की ने बताया कि अंबिकापुर गार्बेज कैफे योजना शुरू करने वाला देश पहला शहर बन गया है और अंबिकापुर में 100 से अधिक घुमंतु लोग हैं, जिन लोगों को इस योजना का लाभ मिलेगा और शहर साफ–सुथरा होगा l

Subcategories

The Voices FB