मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

भोपाल फर्जीवाड़ा मामले में आयकर विभाग ने आरोपियों पर शिकंजा कसा है। आयकर विभाग ने राजधानी के दो बिल्डरों की लगभग 25 करोड़ रुपए की जमीन जब्त की है। यह जमीन बिल्डर परिवार ने आदिवासियों से खरीदी थी। वे इसे सीधे नहीं खरीद सकते थे इसलिए अशोक नगर के एक आदिवासी के नाम पर खरीदी गई। 11 साल पहले खरीदी गई इस जमीन के लिए तमाम लेन-देन भी उसी आदिवासी के बैंक खाते के जरिए किए गए हैं।

यह घटना भोपाल की है, जहां रियल एस्टेट कारोबारी शशिशंकर शर्मा और उनके बेटे विकास शर्मा ने आदिवासी कल्याण सिंह के नाम से 22.5 एकड़ जमीन खरीदी थी। कल्याण सिंह सरकारी रिकॉर्ड में बीपीएल कार्डधारक है। उसने अपनी मासिक आय केवल 300 रुपए बताई थी। आदिवासी को पूछताछ के लिए बुलाए जाने पर आयकर अधिकारियों को यह कहकर गुमराह करने की कोशिश की कि यह जमीन उसी ने खरीदी है। लेकिन विभाग को जल्द ही यह पता चला गया कि यह जमीन बिल्डरों की है। बिल्डरों ने इस जमीन के कुछ हिस्से को बाद में अपने नाम भी करा लिया था। उसमें वे डेवलपमेंट का काम भी कर रहे थे।

कल्याण सिंह के नाम यह सारी जमीन 2008-10 के बीच खरीदी गई। जमीन के लिए कुल 6.50 करोड़ रुपए का भुगतान कल्याण के खाते से ही किया गया। करीब 1 करोड़ रुपए तो नकद ही दिए गए। कुल 22.5 एकड़ जमीन खरीदी गई, इसके 50 खसरे हैं। विभाग ने शर्मा पिता-पुत्र को 15 दिन का नोटिस भेजकर बेनामी प्रॉपर्टी पर जवाब मांगा है। जारी वर्ष में अब तक भोपाल स्थित बेनामी प्रॉपर्टी विंग ने 200 से अधिक प्रापर्टी अटैच की हैं। इनका बाजार मूल्य 100 करोड़ रुपए से अधिक आंका गया है। 

मध्य प्रदेश

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

भोपाल। एक यात्री रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म और ट्रेन के बीच में गिर गया। गेट पर खड़े अन्य यात्रियों ने वृद्ध यात्रियों को खींचकर जान बचाई। इस दौरान यात्री का मोबाइल ट्रैक पर गिर गया। एक यात्री ने मोबाइल जीआरपी देकर घटना की जानकारी दी।

जीआरपी थाना प्रभारी एनएस मिश्रा ने बताया कि बंगाली चौराहा इंदौर निवासी शांतिलाल जैन अयोध्या गए थे। वह फैजाबाद से उज्जैन के लिए साबरमती एक्सप्रेस में यात्री कर रहे थे। मंगलवार सुबह करीब 10 बजे ट्रेन प्लेटफॉर्म नंबर एक पर आकर रुकी। इंजन बदलने के लिए ट्रेन करीब 30 मिनट स्टेशन पर रुकी रही। जैसे ही ट्रेन चलने लगी तो शांतिलाल ने ट्रेन में चढ़ने का प्रयास किया तभी उनका पैर फिसल गया। उनके दोनों पैर ट्रेन और प्लेटफॉर्म के बीच फंस गए। गेट पर खड़े अन्य यात्रियों ने उन्हें बाहर निकालकर जान बचाई।

इस दौरान यात्री का मोबाइल ट्रैक पर गिर गया। महादेवखेड़ी स्टेशन पर यात्री को याद आया कि उसका मोबाइल गिर गया है। वह महादेवखेड़ी स्टेशन पर उतर गए और शिकायत करने जीआरपी पहुंचे। इससे पहले एक यात्री ने जीआरपी को मोबाइल देकर घटना की जानकारी दी। यात्री के पहुंचते ही जीआरपी ने उन्हें मोबाइल सौंप दिया।

मध्य प्रदेश

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

मंडला। वर्चस्व की लड़ाई में एक और बाघ की मौत हो गई। इस खूनी संघर्ष के बाद बाघ ने मृत बाघ का मांस भी खाया। इसके पूर्व भी करीब तीन महीने पहले भी इस बाघ ने एक बाघ का शिकार कर उसे खाया था। इस बार टी-36 बाघ को मार दिया और उसे खाया। बाघ लगभग 24 घंटे मृत बाघ के शव के आस-पास डटा रहा, जिसके चलते उसका पोस्टमार्टम नहीं हो पाया।

उह घटना मध्यप्रदेश के कान्हा नेशनल पार्क की है, जहां बाघ टी-56 ने टी-36 को मार दिया और खाया। शनिवार की सुबह पार्क प्रबंधन ने शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम कराया। पार्क के विशेषज्ञ डॉ. संदीप अग्रवाल ने बताया कि पोस्टमार्टम में मृत बाघ का पीछे वाला हिस्सा टी-56 ने खा लिया था और गर्दन, आगे के पैर व कुछ हिस्सा बच गया था। गर्दन पर मिले निशानों से साबित होता है कि वर्चस्व की लड़ाई में टी-36 की मौत हुई है। इस बाघ की उम्र करीब 11 वर्ष बताई जा रही है। बाघ का शव दो दिन पुराना होने के बाद टी-56 ने इसे खाना शुरू किया। इसके पहले फरवरी माह में दो शावकों को एक बाघ ने मार दिया था। हालांकि यह साफ नहीं हो पाया कि यह शिकार किस बाघ ने किया था। पिछले तीन महीने में चार बाघ की मौत इसी तरह आपसी लड़ाई में हो चुकी है।

कान्हा नेशनल पार्क के डायरेक्टर एल. कृष्णामूर्ति ने बताया कि यह घटना अनोखी नहीं है। कान्हा नेशनल पार्क में बाघों के शिकार करने के लिए पर्याप्त मात्रा में हिरण, चीतल, सांभर हैं, लेकिन बाघ वर्चस्व की लड़ाई में बाघ को मारकर अपना निवाला बना रहा है, यह विषय गंभीर है। इस मामले में विशेषज्ञों की सलाह ली जाएगी।

मध्य प्रदेश

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

इंदौर। एमआर 10 स्थित शराब की दुकान में सुबह भीषण आग लग गई। आग इतनी भयावह थी कि एक युवक की मौके पर मौत हो गई। वहीं एक युवक की हालत गंभीर है, जिसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। स्थानीय लोगों का कहना है कि शॉट सर्किट से आग लगी है। वहीं सूचना मिलने के बाद फौरन मौके पर पहुंची दमकल ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।

 

बता दें कि सुबह करीब 8 बजे चंद्रगुप्त चौराहा स्थित शराब दुकान पर आग लग गई। दमकल की टीम को मौके से अग्निशमन यंत्र भी नहीं मिले। जिसके चलते आग और भयावह हो गई। दो फायर वाहन की मदद से आग पर काबू पा लिया गया है। आग इतनी भीषण थी कि आसपास की दुकानों को भी चपेट में ले लिया। बताया जा रहा है कि हादसे में मृतक युवक शराब दुकान के पास बार में ही सोता था।

मध्य प्रदेश

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

इंदौर। धोखाधड़ी के मामले में पुलिस ने एक महिला को गिरफ्तार किया है। महिला पर आरोप है कि उसने चेक पर ओवरराइटिंग कर 48 रुपये की जगह पर 4 लाख 80 हजार रुपये निकाल लिए थे। इस मामले में बिहटा पुलिस ने मध्यप्रदेश के इंदौर से एक महिला को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

गिरफ्तार महिला इंदौर निवासी भानु प्रकाश सोनी की पत्नी नम्रता सोनी है। बताया जा रहा है कि सात माह पहले विष्णुपुरा निवासी राम अयोध्या सिंह के घर एक व्यक्ति पहुंचा, जो खुद को बीएसएनएल का एरिया मैनेजर और नाम आशीष कुमार बता रहा था। उसने कहा कि जमीन उपलब्ध करा दें तो बीएसएनएल का टावर लगेगा, जिसका किराया प्रतिमाह 12 हजार कंपनी की तरफ से किराया मिलेगा। उसने एक हफ्ते में एग्रीमेंट की प्रक्रिया पूरी होने की बात कही। उसकी बातों में आकर राम अयोध्या सिंह ने अपनी जमीन के कागजात की फोटोकॉपी और 48 रुपये का एक चेक दे दिया। इसके अगले ही दिन उनके मोबाइल पर मैसेज आया कि खाते से 4 लाख 80 हजार रुपये निकल लिए गये है। बैंक में पता करने पर पाया कि उनके खाते से रुपये मध्यप्रदेश की इंदौर निवासी नम्रता सोनी के खाते में ट्रासफर किए गए हैं। इसके बाद उन्होंने बिहटा थाना में छह जुलाई को मामला दर्ज करवाया।

इस मामले में थाना प्रभारी युगेश चंद्र ने बताया कि मुख्य आरोपित फरार है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार की गई नम्रता सोनी के खाते से 3.65 लाख रुपये आशीष कुमार के खाते में ट्रासफर कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि आशीष और नम्रता सोनी दोनों की आपस में गहरी पहचान है। बहुत जल्द उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

The Voices FB