ओडिशा

ओडिशा

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्लीl  तूफान फैनी ने बेहद खतरनाक 'चक्रवात’ का रूप ले लिया हैl ये लगातार ओडिशा तट की ओर बढ़ रहा हैl मौसम विभाग के मुताबिक 3 मई को ये तूफान ओडिशा के गोपालपुर और चांदबाली के बीच टकरा सकता हैl इस दौरान हवा की रफ्तार 175 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे तक रह सकती हैl ये रफ्तार बाद में 205 किलोमीटर प्रति घंटे तक भी पहुंच सकती हैl

चक्रवाती तूफान फैनी को ध्यान में रखते हुए केंद्र ने 4 राज्यों को 1086 करोड़ रुपए का एडवांस फंड जारी किया ताकि आपातकालीन परिस्थितियों से निपटा जा सके। गृह मंत्रालय ने मंगलवार को स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फंड से आंध्रप्रदेश के लिए 200.25 करोड़, ओडिशा के लिए 340.87 करोड़, तमिलनाडु के लिए 309.37 करोड़ और पश्चिम बंगाल के लिए 235.50 करोड़ रुपए की राशि जारी की है।नौसेना भी हाई अलर्ट पर है। फिलहाल ये तूफान श्रीलंका में त्रिनकोमाली से करीब 620 किलोमीटर पूर्व-उत्तरपूर्व और चेन्नई से 700 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व तथा मछलीपट्टनम से 900 किलोमीटर दक्षिणपूर्व में है।  ये तूफान फिलहाल 18 किमी प्रति घंटे की गति से बढ़ रहा है। अगले दो दिन में इसकी गति बढ़ने की संभावना है। 

लगातार बढ़ रही इस चक्रवाती तूफान की रफ्तार को देखते हुए भारतीय सेना और नौसेना को इससे निपटने के लिए अलर्ट पर रखा गया है। तीनों ही सेनाओं की राहत टीमें बनाई गई हैं जो इमरजेंसी की स्थिति में तेज़ी से राहत पहुंचाने के लिए स्टैंडबाय पर हैं। बता दें कि फैनी को पिछले साल आए तितली तूफान से भी ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है। तितली तूफान में 60 लोगों की मौत हुई थी।तूफान ‘फैनी’ को लेकर ओडिशा प्रशासन ने सतर्कता बरतते हुए सोमवार को तीन तटीय जिलों के कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर दी। गंजाम, पुरी और केंद्रापाड़ा जिलों में कर्मचारियों की छुट्टियां एहतियाती कदम के तौर पर रद्द की गई हैंl

ओडिशा

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

जमाकर्ताओं ने क्राइमब्रांच से जांच कराने की मांग की है।

भुवनेश्वर। एक चिटफंड कंपनी ने 100 करोड़ वसूलकर भाग जाने की घटना सामने आई है। ऑलकेमिस्ट नामक इस चिटफंड कंपनी में गरीब किसान, कामगार और छोटे कारोबारियों ने निवेश किया था। कंपनी का मुख्यालय कोलकाता में बताया जा रहा है।

यह घटना ओडिशा के गंजाम जिले की है। लोगों का आरोप है कि कंपनी ने सेबी के साथ अनुबंधित होने का नकली प्रमाणपत्र दिखाकर उनमें विश्वास पैदा किया था। कंपनी के कर्मचारी भाग जाने के बाद जमाकर्ताओं में निराशा है। कई जमाकर्ताओं ने क्राइमब्रांच से जांच कराने की मांग की है। कुछ स्थानीय युवकों को एजेंट के तौर पर नियुक्त कर कंपनी ने गंजाम जिले के दिगपहंडी, ब्रह्मापुर, आस्का में शाखाएं खोली थी। विभिन्न स्कीम में कम समय के दौरान मैच्युरिटी का प्रलोभन दिखाकर लोगों से पैसा जमा करवाने में कंपनी को सफलता मिली। सूत्रों की माने तो केवल गंजाम जिले से ही कंपनी ने 100 करोड़ से ज्यादा जमा किया था। अब इस कंपनी में जमाकर्ता अपनी गाढ़ी कमाई लूट जाने से निराश हैं।

The Voices FB