रायपुर। नियमितिकरण समेत कई मांगों को लेकर भाजपा शासनकाल में लंबा आंदोलन करने वाले प्रदेश के लगभग 1 लाख 80 हजार अनियमित कर्मचारियों में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद खुशी की लहर है, क्‍योंकि नियमितिकरण पर कांग्रेस ने अपना रूख चुनाव के पहले ही अपने घोषणा पत्र में स्‍पष्‍ट करते हुए कह दिया था, कि सरकार बनने पर अनि‍यमित कर्मचारियों को नियमित कर दिया जाएगा, वहीं संविदा प्रथा की समाप्ति पर भी कांग्रेस के नेताओं ने सकारात्‍मक आश्‍वासन दिया था।

 

आपको बता दें, कि अनियमित कर्मचारियों का संगठन बहुत जल्‍द एक महासम्‍मेलन आयोजन करने की तैयारी कर रहा है। अनियमित कर्मचारी संघ के वरिष्‍ठ प्रतिनिधि अनिल देवांगन ने बताया कि इस महासम्‍मेलन में नए सीएम भूपेश बघेल का कर्मचारियों की तरफ से सम्‍मान किया जाएगा। सीएम के सा‍थ ही सभी विधायकों का भी सम्‍मान किया जाएगा। 12 जनवरी या उसके आसपास यह कार्यक्रम संभावित है, लेकिन फिलहाल सीएम की तरफ से समय नहीं मिल पाया है, लेकिन कर्मचारी संघ के प्रतिनिधि इसके लिए प्रयासरत हैं। 

गौरतलब है कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में अनियमित कर्मचारियों की मांगों को सम्मिलित किया था, जिसमें उनके द्वारा समस्त अनियमित कर्मचारियों, जिनमें संविदा, दैनिक वेतनभोगी, प्लेसमेंट आदि सभी तरह के अनियमित कर्मचारी/अधिकारी शामिल हैं, के नियमितीकरण की बात कही थी। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और अब सीएम भूपेश बघेल एवं कांग्रेस घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष और अब राज्‍य सरकार के मंत्री टीएस सिंहदेव ने पूरे राज्य में दौरा करके घोषणा पत्र बनाया था। उन्होंने सभी जिलों में कार्यरत अनियमित कर्मचारियों से मुलाकात की तथा उसी समय उन्हें भरोसा दिया कि अनियमित कर्मचारियों की मांग जायज है और हम इसे घोषणा पत्र में शामिल करेंगे और कांग्रेस की सरकार बनते ही 1 माह के भीतर आपकी मांगों को पूर्ण करेंगे।

अनिल देवांगन     |    रवि गढ़पाले     |    राशिद शेख     |    हेमंत सिन्हा     अनिल देवांगन | रवि गढ़पाले | राशिद शेख | हेमंत सिन्हा

साथ ही अनियमित कर्मचारियों के आंदोलनों के समय कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू, चरण दास महंत, रविन्द्र चौबे, धनेंद्र साहू, अरुण वोरा सहित तमाम विधायकों तथा ग्राम पंचायत से लेकर जनपद एवं जिला पंचायत के प्रतिनिधियों ने इनके मांगों पर पूर्ण सहमति देते हुए मांगों को पूर्ण किए जाने हेतु तत्कालीन भाजपा सरकार को पत्र भी जारी किया था और मांगे पूर्ण न होने पर कांग्रेस सरकार बनने के बाद मांगों को पूरा करने का भरोसा दिलाया था।

गोविंद साहू     |    राखी शर्मा     |    गिरिराज वर्मा     |    नरेन्द्र दुबेगोविंद साहू | राखी शर्मा | गिरिराज वर्मा | नरेन्द्र दुबे

अनियमित कर्मचारियों का कहना है कि उन्होंने विगत कई वर्षों से अपनी मांगों को लेकर लड़ाइयां लड़ी एवं जिस प्रकार से कांग्रेस ने पूरे चुनाव प्रचार में अनियमित कर्मचारियों की मांगों को राष्ट्रीय नेतृत्व राहुल गांधी एवं राज्य के सभी प्रत्याशियों ने अपने भाषणों में सम्मिलित किया तथा पूरे रायपुर एवं राज्य के हर एक कोने में हमारी मांगो के सम्बंध में जो प्रचार प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, पाम्पलेट एवं फ्लेक्स के माध्यम से प्रचार किया, उसका परिणाम अनियमित कर्मचारियों ने अपने मतों के माध्यम से दिया है और इसका पूर्ण प्रतिफल कांग्रेस सरकार उन्हें देगी।

अनियमित कर्मचारियों द्वारा आयोजित किए जाने वाले महासम्‍मेलन के लिए वरिष्‍ठ प्रतिनिधि अनिल देवांगन समेत रवि गढ़पाले, हेमन्त सिन्हा, गोविंद साहू, राशिद शेख, जुनैद खान, तोपन सिंह दायमा, अजित नाविक, सुरेंद्र देवांगन, मनोज मरकाम, नरेंद्र दुबे, अभिषेक ठाकुर, सुरेंद्र वर्मा, सूरज सिंह, श्रीकांत लास्कर, कौशलेश तिवारी, टीकम कौशिक, चंद्रशेखर अग्निवंशी, गोपाल गिरी गोस्वामी, चन्द्रहास साहू, उत्तम साहू, मनीष सोनी, सौरभ शर्मा, आंनद मिरी, संतोष साहू, गोपाल खुंटे, सुदेश यादव, वैष्णव, राखी शर्मा, मित्रेश शर्मा, रेणु राजपूत, ओमप्रकाश देवांगन, अशेष सिन्हा, शहनाज परवीन, हीरा लाल भगत, संजय काठले, सारिका देवांगन, विजय बहादुर जैन, सुशील दुर्गम, आशीष देवांगन, परमानंद देवांगन आदि तैयारियों में सक्रिय रूप से लगे हुए हैं।

ये हैं अनियमित कर्मचारियों की मांगें -

  1. समस्त विभागों में कार्यरत अनियमित कर्मचारियों का नियमितीकरण।
  2. 62 वर्ष तक जॉब सिक्योरिटी।
  3. विगत वर्षों में निकाले गए अनियमित कर्मचारियों की उनके जॉब में वापसी।
  4. ठेका प्रथा बन्द किया जावें तथा आउट सोर्सिंग में मध्यस्था खत्म किया जावें।