By रमेश गुप्‍ता

भिलाई। सामुदायिक पुलिसिंग को बढ़ावा देने जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में 'हमर द्वार हमर रखवार' अभियान चलाया जा रहा है। एक माह तक चलने वाले इस कार्यक्रम के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में चलित थाना लगाकर ग्रामीणों को कानूनी जानकारी देते हुए हाईटेक अपराधों से बचने के टिप्स देने के साथ ही अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए सहयोग की अपील की जा रही है। खासकर महिलाओं में जागरुकता लाने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। 7 फरवरी से शुरू हुए इस अभियान के तहत जिले के सभी ग्रामीण क्षेत्रों को कवर करने का लक्ष्य है।



कार्यक्रम को लेकर आज पुलिस कंट्रोल रूम में एएसपी प्रज्ञा मेश्राम ने बताया कि 'हमर द्वार हमर रखवार’ कार्यक्रम के तहत ग्रामीण अंचलों में पुलिस द्वारा संगोष्ठी किया जा रहा है। कानून के प्रति महिलाओं व बच्चों को जानकारी दी जा रही है। महिलाओं व बाल अपराधों को संबंध में विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज किए जाने वाले अपराधों को लेकर जागरुक किया जा रहा है। विशेषकर पॉक्सो एक्ट को लेकर बच्चों को जागरुक किया जाएगा। आने वाले दिनों में ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं बच्चों अपराध व अपराधी के विरोध में खड़े रहने की सीख दी जाएगी।

आत्मरक्षा के गुर भी सिखाएंगे

प्रेसवार्ता में एएसपी प्रज्ञा मेश्राम ने कहा है कि महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर भी सिखाए जाएंगे। इसके जिए रक्षा टीम के सदस्यों की एक टीम तैयार की गई है, जो ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को कई बिंदुओं पर प्रशिक्षण देंगी। प्रज्ञा मेश्राम ने कहा कि जिला पुलिस द्वारा लगातार इस दिशा में प्रयास किया जा रहा है जिसमें महिलाओं व बच्चों के साथ होने वाले हिसंक अपराधों में कमी लाई जा सके। गांवों में संगोष्ठी के माध्यम से 'हमर द्वार हमर रखवार’ का कार्यक्रम कारगार भी साबित हो रहा है। यही नहीं इस दौरान गांव की महिलाओं से भी सुझाव मांगे जा रहे हैं, जिससे कि सामुदायिक पुलिसिंग को और बेहतर बनाया जा सके।