रायपुर। छत्तीसगढ़ और ओडिशा के बीच सीमा विवाद फिर बढ़ सकता है। गरियाबंद के गुरजाबहल की सीमा इसकी वजह हो सकता है। दोनों प्रदेशों के बीच पिछले साल जून में विवादित जमीन को लेकर आपसी सहमति बनी थी, लेकिन ओडिशा ने समझौते का उल्लंघन करते हुए जमीन पर फिर कब्जा कर लिया है।

ओडिशा प्रशासन ने जमीन पर एक बोर्ड भी लगा दिया है। जिस पर लिखा है कि किसी भी बाहरी व्यक्ति का इस जमीन पर प्रवेश दंडनीय अपराध है। ओडिशा प्रशासन ने ये बोर्ड 24 फरवरी को लगाया है। इसकी जानकारी गरियाबंद प्रशासन को हो चुकी है, बावजूद इसके कोई भी जिम्मेदार अधिकारी इस पर बोलने को तैयार नहीं है। यही नहीं छत्तीसगढ के गुरजाबहल के जिन किसानों के नाम पर ये जमीन दर्ज है और अब तक जो इसका इस्तेमाल करते आ रहे थे, वे भी इस रवैये से घबरा गये हैं।

आपको बता दें कि 22 एकड़ ज़मीन पिछले साल जुलाई में दोनों प्रदेशों के बीच विवाद का कारण बना था। विवादित जमीन गुरजाबहल के किसानों के नाम पर दर्ज होने के बाद भी ओडिशा के कुछ किसानों ने अपना बताकर कब्जा करने की कोशिश की थी, तब दोनों राज्यों के अधिकारियों ने मिलकर मामले को सुलझाने पर सहमति जताई थी।