3 हादसों में 11 लोग गँवा चुके है अपनी जान 



जमशेदपुर। झारखंड में हादसों कहर देखने को मिल रहा है। 3 दुर्घटनाओं में 11 लोगों की जान चली गयी है। पहली घटना देवघर के सारवां थाना क्षेत्र के सारठ-देवघर रोड की है। डकाय जंगल के पास गुरुवार दोपहर को ट्रक और सवारी गाड़ी में टक्कर हो गयी। इस सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई। हादसा दोनों गाड़ियों की आमने-सामने की टक्कर से हुआ। घटना के बाद ट्रक चालक गाड़ी समेत फरार हो गया।

पालाजोरी के रांगाटांड निवासी मंगरू मंडल की 50 वर्षीय पत्नी सुरजी देवी की बुधवार रात मौत हो गई थी। गुरुवार को परिजन शव लेकर पिक-अप से अंतिम संस्कार करने के लिए सुल्तानगंज गंगाघाट जा रहे थे। तभी सामने से आ रहे अनियंत्रित ट्रक ने टक्कर मार दी। मरने वालों में मृतक सुरजी का इकलौता बेटा गोविंद उर्फ भुटका मंडल भी शामिल है, जो मां का अंतिम संस्कार करने जा रहा था। दुर्घटना में अनिल मंडल, सरोज मंडल, राम सिंह और सीताराम सिंह की जान चली गयी। हादसे में 11 लोग घायल हो गए। इनमें मंगरू मंडल समेत तीन की हालत गंभीर बताई जा रही है।

डम्पर ने कुचला लोगो को

टाटानगर रेलवे स्टेशन के पास गुरुवार सुबह 4 बजे के अनियंत्रित डम्पर ने सड़क के बीच बने डिवाइडर पर सो रहे लोगों को कुचल दिया। ड्राईवर की लापरवाही की वजह से यह हादसा हुआ। इसमें नारायण पासी और बेटे राजू पासी की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि घायल पत्नी सानू देवी, बेटी मनीषा, दुर्गा व बेटे ओमकार का इलाज एमजीएम में चल रहा है।

पिक-अप के पलटने से 4 की मौत
पलामू-गढ़वा सीमा पर रमकंडा थाना के मोरखुर धावा पुल के पास पिक-अप वैन पलटने से चार लोगों की मौत हो गई। ये लोग मेदिनीनगर आ रहे थे। तभी मोरखुर धावा पुल के पास हादसा हो गया। पिक-अप पर सवार रमकंडा प्रखंड के पुंदागा निवासी के कामराज यादव और प्रसिद्ध यादव की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि, पुंदागा के ही देवकुमार यादव और छाहो के देवजीत भुईंया की मौत इलाज के दौरान सदर अस्पताल में हुई।