बैंकॉकअमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कश्मीर मुद्दे पर बयान दिया है। ट्रंप ने कहा है कि अगर भारत-पाकिस्तान चाहे तो मैं इस मामले में हस्तक्षेप के लिए तैयार हूं। ट्रंप के बयान के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने स्पष्ट कर दिया है कि कश्मीर पर कोई चर्चा केवल भारत और पाकिस्तान के बीच ही होगी।

दरअसल, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मीडिया ने कश्मीर मामले में मध्यस्थता को लेकर सवाल पूछा था। सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा कि अगर भारत-पाकिस्तान चाहें तो वो इस मसले पर मध्यस्थता के लिए तैयार हैं। ट्रंप ने कहा- ये भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान के ऊपर निर्भर करता है। मैंने इसको लेकर भारत-पाकिस्तान से बात की है, क्योंकि लेकिन लंबे समय से यह लड़ाई चल रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 9वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन  में विदेश मंत्रियों की बैठक के दूसरे दिन अमेरिकी समकक्ष विदेश मंत्री माइकल पोम्पिओ से मुलाकात की। उन्होंने स्पष्ट किया कि कश्मीर मुद्दे पर केवल भारत-पाकिस्तान के बीच ही चर्चा होगी। उन्होंने कहा कि यह एक द्विपक्षीय मुद्दा है।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर कहा है कि 'आज सुबह अमेरिकी समकक्ष माइक पोम्पिओ को स्पष्ट शब्दों में अवगत कराया कि कश्मीर पर कोई भी चर्चा, यदि सभी संभव हैं तो वह केवल और केवल पाकिस्तान के साथ होगी।'

बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कुछ दिनों पहले भी बयान दिया था कि भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे कश्मीर मसले पर मध्यस्थता करने का आग्रह किया है। तब भारत की ओर से इस पर आपत्ति जताई गई थी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर लिखा था कि भारत ने कभी भी ऐसी पेशकश नहीं की।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति से ऐसा कोई आग्रह नहीं किया है।