वाहनों की आवाजाही पर कड़ी निगरानी

रांची।  चुनाव के दौरान नकली नोट का इस्तेमाल किया जा सकता है। ऐसा झारखंड की खुफिया एजेंसियों ने पुलिस महकमे को अलर्ट किया है। राज्य की विशेष शाखा के एक सूत्र ने बताया कि माओवादियों की मदद से आतंकवादी संगठन लोकसभा चुनावों में फेक करेंसी का इस्तेमाल कर सकते हैं। सभी जिलों के एसपी को अलर्ट कर दिया गया है।

सूत्र के अनुसार गाड़ियों और सड़क पर चलने वाले अन्य वाहन की आवाजाही पर कड़ी निगरानी रखने के लिए एसपी को कहा गया है। फेक करेंसी को बांग्लादेश या नेपाल से बिहार और बंगाल के जरिए राज्य में लाया जा सकता है।

गौरतलब है कि झारखंड में चुनाव अंतिम चार चरणों में पूरा होगा। आम चुनावों की घोषणा के बाद अब तक 2 करोड़ रुपये से अधिक की नकदी जब्त की जा चुकी है। कुछ महीने पहले पुलिस ने हजारीबाग के रहने वाले राजेश भुईया को फेक करेंसी रैकेट में शामिल होने मामले में गिरफ्तार किया था। पुलिस ने 2,000 रुपये के 104 नोट जब्त किए हैं। चुनाव में अवैध शराब के इस्तेमाल को लेकर स्पेशल ब्रांच ने भी एसपी को अलर्ट किया है। कुछ शराब कारोबारियों की पहचान की गई है और उनकी गतिविधियों पर विशेष शाखा के अधिकारी नजर बनाए हुए हैं।सूत्र ने कहा कि शराब और नकदी की आवाजाही पर रोक लगाने के लिए राज्य की सीमाओं पर जांच तेज कर दी गई है।