रायपुर। वाट्सअप पर तेजी से एक मैसेज वायरल हो रहा है जिसमें लिखा है कि 18 साल से ज्‍यादा उम्र की हर महिला को फ्री स्‍कूटर मिलेगा। इस योजना का नाम प्रधानमंत्री अम्‍मा स्‍कूटर योजना नाम दिया गया है। इसके लिए लोगों से रजिस्‍टर करने और इस मैसेज को ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों तक पहुंचाने की अपील की जा रही है। लोगा धड़ाधड़ मुफ्त स्‍कूटर के लालच में आकर अपनी घर की महिलाओं या दूसरे परिजनों की जानकारी दरअसल गलत हाथों में देने का रिस्‍क ले रहे हैं।

आप ये जानकार हैरान होंगे कि प्रधानमंत्री का नाम जोड़कर बताई जा रही ऐसी कोई योजना नहीं है। आईटी एक्‍सपर्ट  मोहित साहू ने The Voices  को बताया कि ये कोई सरकारी साइट नहीं है। आम तौर पर ऐसी किसी भी योजना की ऑनलाइन प्रोसेस आधिकारिक साइट्स पर होती है। स्‍कूटर योजना वाली ये लिंक एक धोखा है जो लोगों के साथ किया जा रहा है। ऐसा करने वाली एजेंसी गूगल से इसके बदले में विज्ञापन कमा रही है। और ये भी मुमकिन है कि आम लोगों की जानकारी जैसे की नाम और मोबाइल नंबरों को भी मोटी कीमत पर बेचा जाए या उनका इस्‍तेमाल अपने फायदे के लिए करे।
it expert mohit sahu


आप ये करें
अगर आपने अपनी जानकारी इस लिंक पर सब्‍मिट कर दी हो तो घबराएं नहीं देर नहीं हुई है। मगर ऐसा कुछ करने से अपने परिचितों को फौरन रोकें। किसी भी सूरत में ऐसी जानकारी मिलने पर संबंधित विभाग की वेबसाइट या ई मेल या कॉन्‍टैक्‍ट नंबर पर पहले कंफर्म करें तभी आगे फैसला लें।
WhatsApp Image 2018 10 05 at 20.58.27


अम्‍मा स्‍कूटर योजना का सच
स्‍कूटर बांटने की योजना है मगर  तमिलनाडु में यहां  स्वर्गीय जे. जयललिता के जन्मदिन पर एआईएडीएमके सरकार  ने 'अम्मा स्कूटर योजना' की शुरूआत की थी। जिसे पीएम मोदी ने शुरू किया था।  इस योजना के तहत कामकाजी महिलाओं को दो पहिया वाहन खरीदने पर 50 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाने की बात कही गई थी। इसी तरह से तमिलनाड़ू में कई तरह की योजनाएं हैं। राज्य सरकार 15 से 20 हजार करोड़ रुपये तक हर साल खर्च करती है। इसमें अम्मा मिक्सर ऐंड ग्राइंडर्स योजना (7,755 करोड़), अम्मा विवाह योजना (4,332 करोड़), अम्मा लैपटॉप योजना (3,324 करोड़) और अम्मा साइकल्स (359 करोड़) जैसी योजनाएं एआईएडीएम के द्वारा शुरू की गई हैं। वहीं डीएमके ने भी कलर टीवी के लिए 3,384 करोड़ रुपये प्रस्तावित किए थे।