भुवनेश्वर। मामला थोड़ा दिलचस्प है। पढ़ने के बाद आपको थोड़ा अच्छा भी लगेगा और साथ ही हमारे सिस्टम पर थोड़ा गुस्सा भी आएगा। मामला है ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले का। घटना 3 अक्टूबर की है।  ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनय प्रकाश साय टाइलिमल प्रोजेक्ट प्राइमरी स्कूल में निरीक्षण के  लिए आए हुए थे। जैसा कि हमारे यहां समाज होता है, उसी के अनुरुप प्रिसिंपल ने ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनय प्रकाश साय का स्वागत किया। मतलब जोरदार स्वागत किया। मिड मिल का खाना तैयार होता है उस रसोई में जाने के बाद, विनय प्रकाश ने छात्रों के साथ दोपहर के भोजन के लिए बैठना पसंद किया। यहां तक तो बात ठीक थी।

मामला उलटा पड़ गया खाना खाने के दौरान। स्कूल के बच्चों को खाने में दाल-चवाल परोसा गया। वहीं बच्चों के बगल में बैठे ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनय प्रकाश साय और स्कूल के स्टाफ को चिकन और सलाद परोसा गया। ब्लॉक शिक्षा अधिकारी भी आराम से वहीं पर बैठकर चिकन लेग पीस दबाने (खाने) में लगे रहे। घटना का किसी ने वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया में डाल दिया। इसके बाद वीडियो वायरल हो गया।

वीडियो के जानकारी जैसे ही जिला प्रशासन तक पहुंची, तुरंत कार्रवाई करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी ने ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनय प्रकाश को निलंबित कर दिया। हालांकि इसके बाद भी विनय प्रकाश ने इस आरोप का खंडन करते हुए कहा कि उनके लिए परोसी जाने वाली करी चिकन नहीं थी, बल्कि उनके महिला शिक्षक के घर से लाया गया शाकाहारी भोजन था। खैर वो चिकन था सब्जी, जांच में सच सामने आ जाएगा। इतना है कि चिकन का लेग पीस अधिकारी जी पर भारी पड़ गया, जिसे जिंदगी भर याद रखेंगे।