रायपुर। प्रदेश के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे की गिनती सूबे के दिग्गज व प्रखर वक्ताओं में होती है। ये अपने विरोधियों पर भी मीठे शब्दों से निशाना साधते हैं, लेकिन भाजपा के आरोपों पर सरकार के दिग्गज मंत्री पलटवार करते-करते ऐसा कुछ बोल गए, जिससे राजनीति गरमा सकती है। उनके इस रौब को देखखर हर कोई दंग रह गया। 

कांग्रेस द्वारा आयोजित किये जा रहे “कौशल्या के राम” कार्यक्रम को लेकर भाजपा के आरोपों पर पलटवार करते हुए मंत्री महोदय “भाजपा के राम और हमारे राम में अंतर है। हमारे राम शबरी के राम हैं, निषाद के राम हैं, वनवासी के राम हैं। वहीं भाजपा के राम मॉब लिंचिंग के राम हैं,चंदा बटोरने के राम हैं। देश की संस्कृति में रामलीला रची बसी है और इसलिए कांग्रेस रामलीला करवा रही है।

रविन्द्र चौबे ने कहा कि भाजपा का नैतिक अधिकार नहीं है क्या.... राम सिर्फ भाजपा के है? कल विधानसभा में हमने कहा है कांग्रेस के राम का मतलब है। शबरी के राम, वनवनसियो और निषाद राज के राम। भाजपा के राम का मतलब चंदा बटोरने के लिए राम की तस्वीर।  धंधा करने के लिए राम की तस्वीर। राम शिला पूजन के बहाने वोट बटोरने की कोशिश। मॉब लॉन्चिंग के बहाने चोट करने की तस्वीर। हमारे और उनके राम में बहुत फर्क है। राम हमारे संस्कृति में बसे हैं। भाजपा ने हमेशा राम नाम का दुरुपयोग किया है।