दुनिया

देश

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली भारतीय सेना से पाकिस्तान की कायराना करतूत पर मुंहतोड़ जवाब देने की ठान ली है। पाकिस्तानी सेना की ओर से सीमा पर लगातार हो रहे सीजफायर उल्लंघन पर भारतीय सेना ने कड़ा रुख अपनाया है। सेना ने आज पाक चेतावनी देते हुए कहा कि हमारे आम नागरिकों को निशाना बनाना बंद करो। पिछले 24 घंटे में पाकिस्तानी सेना की ओर से सुंदरबनी और कृष्णा घाटी के इलाकों में फायरिंग की गई और मोर्टार तथा गोलीबारी के जरिए भारतीय पोस्ट को निशाना बनाया गया।

भारत ने भी इस पर जवाबी हमला किया। बहरहाल भारत की ओर से कोई कैसुअल्टी नहीं हुई है। भारत-पाक में बने तनातनी के माहौल में सीमा पार से पुंछ और राजौरी जिलों की सीमाओं पर लगातार गोलाबारी की जा रही है। पाक की ओर से गोलाबारी के कारण आम नागरिकों में दहशत का माहौल बना हुआ है। दहशत का कारण यह है कि पाक अक्सर एक दो दिन के लिए गोलाबारी बंद करता है और फिर गोलाबारी शुरू कर देता है।

बता दें कि कुछ दिन पहले पाक सेना ने नौशेरा के झंगड़ सेक्टर में गोलाबारी की थी। इस गोलाबारी में एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई थी और सेना के दो जवान और चार ग्रामीण घायल हुए थे। 50 से अधिक घरों को नुकसान पहुंचा था, जबकि 50 से अधिक सीमांत गांव प्रभावित हुए हैं। बता दें कि पुलवामा आत्मघाती हमले के बाद भारतीय वायु सेना ने पाक सीमा में दाखिल होकर एयर स्ट्राइक की थी। इसके बाद से पाक लगातार सीमा पर गोलाबारी कर रहा है। एयर स्ट्राइक के बाद पाक सेना ने 53 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है। 

दुनिया

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्लीे। हिंदुओं के खिलाफ बयान देने पर मंत्री पर कार्रवाई हुई। इतनी सख्त हुई कि उन्हें पद से ही हटा दिया गया। इससे भी ज्यादा हैरानी की बात ये कि खबर पाकिस्तान से आई हैं, जो कि एक मुस्लिम बहुल राष्ट्र है। यहां पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के सूचना और संस्कृति मंत्री फ़ैयाज़ अल हसन चौहान को हिंदुओं पर दिए गए आपत्तिजनक बयान के चलते पद से ही हाथ धोना पड़ा । 

वहां के पंजाब के सीएम सरदार उस्मान बुज़दार हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि इमरान ख़ान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी में किसी भी तरह के भेदभाव को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। चौहान ने हिंदुओं को गाय का मूत्र पीने वाला बताते हुए कहा था कि भारत पाकिस्तान का मुक़ाबला नहीं कर सकता है ।

इस बयान का वीडियो भी वायरल हुआ। सोशल मीडिया में लोगों ने #SackFayazChohan और #Hindus लिखकर आंदोलन सा माहौल बना दिया। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी के नेताओं ने भी उनकी जमकर आलोचना की थी। चौहान ने 24 फ़रवरी को लाहौर में एक कार्यक्रम के दौरान ये विवादित बयान दिया था।
प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के राजनीतिक मामलों के सलाहकार नईमुल हक़ ने एक ट्वीट में कहा था कि पीटीआई इस तरह की बकवास को बर्दाश्त नहीं करेगी भले ही सरकार का कोई वरिष्ठ सदस्य या कोई अन्य ऐसी बात कहे।
क्यों है पाकिस्तानी झंडे में सफेद रंग
पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फ़ैसल ने ट्विटर पर लिखा, "पाकिस्तानी झंडे में जिस गर्व से हरा रंग शामिल है, उसी गर्व से सफ़ेद रंग भी है जो हिंदू समुदाय के योगदान का सम्मान करता है। मानवाधिकार मामलों की मंत्री शिरीन मज़ारी ने भी चौहान की आलोचना करते हुए ट्वीट किया, "मैं इसकी घोर निंदा करती हूं किसी के धर्म पर हमला करने का अधिकार किसी के पास नहीं है हमारे हिंदू नागरिकों ने अपने देश के लिए बलिदान दिया है।

दुनिया

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली। पाकिस्तान सरकार ने वैश्विक दबाव के बीच अपनी धरती से संचालित हो रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। इसी के तहत भारत में बड़ी आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वाले संगठन जैश-ए-मोहम्मद के 44 सदस्यों को पाकिस्तान सुरक्षा बलों ने अपनी हिरासत में ले लिया है, जिनमें इस संगठन के मुखिया मसूद अजहर के दो भाई भी शामिल हैं। मौलाना मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुल रऊफ और उसका बेटा हम्माद अजहर उन लोगों में शामिल हैं, जिन्‍हें कार्रवाई के बाद गिरफ्तार किया गया। अब्दुर रऊफ ही वह शख्‍स है जिसने IC-814 विमान को हाईजैक किया था।

यह जानकारी आंतरिक मामलों के राज्य मंत्री शहीर खान अफरीदी ने एक संवाददाता सम्मेलन में दी। उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते पाकिस्तान के साथ भारत द्वारा साझा किए गए एक डोजियर में मुफ्ती अब्दुल रऊफ और हम्माद अजहर के नाम भी थे। हालांकि, उन्होंने कहा कि किसी दबाव के कारण कार्रवाई नहीं की गई। यह कार्रवाई अगले 15 दिनों तक जारी रहेगी। मंत्री ने कहा कि सभी प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यह कदम पाकिस्तान द्वारा मंगलवार को आया है, जिसमें संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों को लागू करने की प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए व्यक्ति और संगठनों के कार्रवाई की गई। सरकार के आदेश की व्याख्या करते हुए विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा कि इसका मतलब है कि सरकार ने देश में संचालित सभी प्रतिबंधित संगठनों की संपत्ति और संपत्तियों पर नियंत्रण कर लिया है।

इससे पहले मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में आतंकियों की मदद करने के आरोप में करीब 53 संगठनों पर रोक लगाई गई है। इससे पहले जैश-ए-मुहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर की मौत की अफवाह उड़ी थी, बाद में पाकिस्‍तान ने इन खबरों का खंडन किया था। इससे पहले पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने मसूद अजहर के बीमार होने की बात कही थी। बताया जा रहा है कि वह रावलपिंडी के एक सैन्‍य अस्‍पताल में भर्ती है और सेना के घेरे में है। 

दुनिया

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेशी निवेश की पैरवी करते हुए लगातार कह रहे हैं कि विदेशी कंपनियां मेक इन इंडिया में निवेश करने के लिए आगे आएं। इससे भारत को मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने में मदद मिलेगी वहीं युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी सृजित होंगे। वहीं इससे उलट अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपनी कंपनियों से बार-बार अमेरिका वापस बुलाने का आह्वान कर रहे हैं। उनका कहना है कि ये कंपनियां मेक अमेरिका, ग्रेट अगेन अभियान का हिस्सा बनें।

इसके अलावा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मेरीलैंड में कंजरवेटिव पॉलिटिकल एक्शन कान्फ्रेंस (सीपीएसी) में सवाल किया- क्या भारत हमें बेवकूफ समझता है? ट्रम्प ने कहा कि वह बताना चाहते हैं कि सारा विश्व अमेरिका का सम्मान करता है। हम एक देश को अपने सामान पर 100 टैरिफ दें और उनके इसी तरह के सामान पर हमें कुछ न मिले, यह सिलसिला अब आगे नहीं चलेगा।

ट्रम्प ने कहा है कि भारत में टैरिफ की दरें बहुत ज्यादा हैं। अमेरिका से जाने वाली एक बाइक पर भारत 100 फीसद टैरिफ वसूलता है, जबकि वहां से आने वाले इसी तरह के सामान पर अमेरिका कोई टैक्स नहीं लेता। उन्होंने कहा कि हम भी भारत से आने वाले सामानों पर इसी अनुपात में टैरिफ लगाएंगे। लगभग 5.6 अबर डॉलर (40 हजार करोड़) रुपए का सामान अमेरिका में निर्यात करने पर टैरिफ में रियायत दी जाती है। 1970 में बनाई गई योजना के तहत लाभ पाने वाला भारत विश्व का सबसे बड़ा देश है।

The Voices FB